दुःखद :: सीने में दर्द के चलते यूपी पुलिस के सिपाही की मौत , पिता ने कई बार प्राथना पत्र देने के बावजूद छुट्टी नहीं मिलने को बताई वजह , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर - UpssscGov.in - Latest Jobs | Govt jobs | Rojgar Result | Result 2019

Monday, October 7, 2019

दुःखद :: सीने में दर्द के चलते यूपी पुलिस के सिपाही की मौत , पिता ने कई बार प्राथना पत्र देने के बावजूद छुट्टी नहीं मिलने को बताई वजह , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

दुःखद :: सीने  में दर्द के चलते यूपी पुलिस के सिपाही की मौत , पिता ने कई बार प्राथना पत्र देने के बावजूद छुट्टी नहीं मिलने को बताई वजह , क्लिक करे  और पढ़े पूरी खबर  




पुलिस लाइन के स्नानागार में रविवार की सुबह कपड़ा धुलते समय आजमगढ़ निवासी सिपाही की तबीयत खराब हो गई। उसे इलाज के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी मौत हो गई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण स्पष्ट न होने पर विसरा प्रिजर्व कर लिया गया है।
आजमगढ़ जिले के मेहनगर थाना क्षेत्र के बछवल गांव निवासी पंकज यादव (25) पुत्र रमाकांत यादव वर्ष 2018 बैच का सिपाही था। प्रतापगढ़ जिले में पहली तैनाती मिली थी। पुलिस लाइन के बैरक नंबर दो में रहता था। उसकी ड्यूटी डीएम के कैंप कार्यालय पर थी। रविवार सुबह करीब सात बजे पुलिस स्नानागार में कपड़ा धुल रहा था तभी उसकी तबीयत बिगड़ी और गश खाकर जमीन पर गिर पड़ा। साथी सिपाही उसे बैरक में ले गए और पंखा करने लगे। वह पसीने से तर-बतर था। सूचना पर आरआइ शैलेंद्र सिंह पंकज को सुबह 7:30 बजे जिला अस्पताल ले गए। जहां आधे घंटे बाद पंकज ने दम तोड़ दिया। बेटे की मौत की जानकारी होने पर रमाकांत परिजनों के साथ दोपहर करीब 12 बजे पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे। पोस्टमार्टम के बाद शव 2:30 बजे पुलिस लाइन लाया गया।
बेटे को नहीं मिल रही थी छुट्टी : सिपाही के पिता रमाकांत यादव का कहना है कि बेटे से शनिवार रात फोन पर बात हुई थी। बेटे ने बताया कि कई बार प्रार्थना पत्र दिया लेकिन छुट्टी नहीं मिल रही है। इससे कुछ डिस्टर्ब हैं।


Click Here & Download Govt Jobs UP Official Android App



Click Here to join Govt Jobs UP Telegram Channel




No comments:

Post a Comment

Hume khushi hai ki aap yaha comment kar rahe hai but dhyan rahe ki sabhi comments humari Comment Policy ke according moderated hoti hai. So name field me keywords use na kare.