लखनऊ ::: मशाल जुलूस निकालकर शिक्षकों ने मांगी पुरानी पेंशन , उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ ने डीएम कार्यालय पर किया विरोध प्रदर्शन, छह नवंबर तक दिया अल्टीमेटम , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर - UpssscGov.in - Latest Jobs | Govt jobs | Rojgar Result | Result 2019

Friday, October 11, 2019

लखनऊ ::: मशाल जुलूस निकालकर शिक्षकों ने मांगी पुरानी पेंशन , उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ ने डीएम कार्यालय पर किया विरोध प्रदर्शन, छह नवंबर तक दिया अल्टीमेटम , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

लखनऊ ::: मशाल जुलूस निकालकर शिक्षकों ने मांगी पुरानी पेंशन , उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ ने डीएम कार्यालय पर किया विरोध प्रदर्शन, छह नवंबर तक दिया अल्टीमेटम , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर 






परिवार कल्याण प्रोत्साहन वेतन वृद्धि और पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाली सहित अन्य मांगों को लेकर उप्र माध्यमिक शिक्षक संघ ने गुरुवार को जिलाधिकारी कार्यालय पर मशाल जुलूस निकाल कर विरोध प्रदर्शन किया। शिक्षकों ने अपर जिलाधिकारी (पश्चिम) संतोष कुमार वैश्य को ज्ञापन देकर कार्रवाई की मांग की। उन्होंने डीएम के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन भिजवाने का आश्वासन दिया।

संघ के प्रवक्ता डॉ. आरपी मिश्र ने बताया कि वित्तविहीन व्यवस्था की समाप्ति, समान कार्य के लिए समान वेतन एवं सेवा शर्तें, निःशुल्क चिकित्सा सुविधा, तदर्थ शिक्षकों का विनियमितीकरण और प्रेरणा ऐप से सेल्फी भेजने की व्यवस्था खत्म करने की मांग की गई थी। लेकिन अब तक शासन ने कोई ठोस निर्णय नहीं लिया। इससे शिक्षकों में नाराजगी है।

उन्होंने कहा कि सरकार कोई कार्रवाई नहीं करती है तो 6 नवंबर को प्रदेश के प्राथमिक से लेकर डिग्री कॉलेज के शिक्षक और शिक्षिकाएं इको गार्डन में रैली कर विरोध प्रदर्शन करेंगे। प्रदर्शन में शिक्षक महासंघ के अध्यक्ष सुधांशु मोहन, जिला संयोजक डॉ. आरके त्रिवेदी, माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रदेशीय उपाध्यक्ष रामेश्वर उपाध्याय, मंत्री नरेंद्र कुमार वर्मा सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे।


Click Here & Download Govt Jobs UP Official Android App



Click Here to join Govt Jobs UP Telegram Channel




No comments:

Post a Comment

Hume khushi hai ki aap yaha comment kar rahe hai but dhyan rahe ki sabhi comments humari Comment Policy ke according moderated hoti hai. So name field me keywords use na kare.